यह कैसी महाभारत

कहते हैं कि ‘यह जीवन एक कुरुक्षेत्र है

जहाँ हर व्यक्ति अपनी महाभारत स्वयं लड़ता है’;

कृष्ण के बिना, पांडव और कौरव बराबर होते,

युधिष्टर धर्मराज नहीं होते, दुर्योधन धराशायी नहीं होते;

लेकिन आज के युग में  कृष्ण जैसा सारथी अब कहाँ?

Read More…

Posted in Causes, Poem at February 20th, 2013. No Comments.

Love is….

Love’s in the air

All around you,

Encompassing you

Body and soul!

It’s there in the music

Of rustling leaves

Chirping birds

Song of the waterfalls,

Whimpering of the sleeping child;

Read More…

Posted in Causes, Poem at February 14th, 2013. No Comments.